Uncategorized

बज़्म ए गुलशन खै़राबाद का तरही मुशायरा 2022

ख़ैराबाद सीतापुर बज़्म ए गुलशन अदबी तन्ज़ीम खै़राबाद की जानिब से तरही मुशायरा मुनक़्क़िद हुआ।जिसकी सदारत डॉ अज़ीज़ खै़राबादी और निजा़मत के फ़राइज मजाज़ सुल्तानपुरी ने अंजाम दिए।जिसका मिसरा ए तरह था ।“दिल हुए जाते हैं इस दौर में पत्थर की तरह” पर हुआ जिन शोरा ए इकराम ने कलाम पेश किया वो नजर ए …

बज़्म ए गुलशन खै़राबाद का तरही मुशायरा 2022 Read More »

अंजुमन ए मोहम्मद ए रसूल खै़राबाद का मुशायरा

अंजुमने मुहम्मद ए रसूल के तहत नातिया मुशायरा खै़राबाद सीतापुरबज़्म-ए-गुलशन उर्दू अदब खै़राबाद की जानिब से  एक नातिया मुशायरा  मिर्जा इक़रार हुसैन इक़रार खै़राबादी के तत्वावधान में मोहल्ला बजदारी टोला खै़राबाद में एक अपरंपरागत मुशायरे का आयोजन किया गया।जिसमें मसूद महमूदाबादी ने पवित्र कुरान के पाठ से  शुरू किया ।  इसकी अध्यक्षता साजिद खै़राबादी ने …

अंजुमन ए मोहम्मद ए रसूल खै़राबाद का मुशायरा Read More »

अब उनसे जाके ये क़ासिद प्याम कह देना। Ab unse jak ya qasid payam kah dena

अब उनसे जा के ये क़ासिद प्याम कह देना।तड़प  रहा  है   तुम्हारा   ग़ुलाम  कह  देना।। ये  जिस्म  और  जिगर  अपनी जां तो पहले थी।ये दिल भी कर दिया अब उसके नाम कह देना।। तुम्हारे  एक  न  होने  से  घर  हुआ  वीरान।बदल  के  रह  गया सारा निज़ाम कह देना।। अगर  हो  जाना कभी उनके आस्ताने पर।तो …

अब उनसे जाके ये क़ासिद प्याम कह देना। Ab unse jak ya qasid payam kah dena Read More »

दस्तार के बदले मेरा सर मांग रहे थे। Dastar ke Badli Mera sar mang rahe the

सब्जा़ है गुल है साया ए फ़ितरत है आजकल।गुलशन  पे  मौसमों  की इनायत है आजकल।। आ  रास्ता  हों  इल्म  के   ज़ेवर  से    बेटियां।समझो  यही जहेज़  की  सूरत है आजकल।। अपने    हुक़ूक़   के   लिए   बेदार   हो    गईं।मजबूर  कब  यहां कोई औरत है आजकल।। हर चीज  ही  गरां  है  तो  कैसे  हो फिर बसर।सबको पता है कितनी …

दस्तार के बदले मेरा सर मांग रहे थे। Dastar ke Badli Mera sar mang rahe the Read More »

आईना ए गुलशन

शफ़्क़त है मुहब्बत है आईना ए गुलशन में।अल्लाह की रहमत है आईना ए गुलशन में।।شفقت  ھےمحبت ھے آئینۂ گلشن میںاللّٰہ کی  رحمت  ھے  آںٔینۂ گلشن میںमज़मून निराले हैं पढ़ कर तो ज़रा देखो।जिद्दत है रवायत है आईना ए गुलशन में।।مضمون نیرا لے ہیں پڑھ کر تو ذرا دیکھوجدت ھے روایت ھے آںٔینۂ  گلشن میںमजमूआ  हमारा …

आईना ए गुलशन Read More »