"दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है "5ग़ज़लेंं ज़िक्र  होता  है  मगर बात नहीं होती है।आज कल उनसे मुलाकात
"एक नेकी तो कमा लूं मैं भी" कोई  रोता  है  हंसा लूं मैं भी।"एक नेकी तो कमा लूं मैं भी"।।
Urdu Hindi Shayari       बज़्में गुलशन अदबी तंजी़म खै़राबादखै़राबाद सीतापुर बज़्में गुलशन अदबी तंजी़म की जानिब से एक गैर तरही शेरी
Urdu Shayari & Gazal बज़्में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद का महाना तरही प्रोग्राम खै़राबाद सीतापुरबज़्में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद के
Urdu Shayari बज़में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद का महाना तरही प्रोग्राम खै़राबाद सीतापुरबज़्में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद के तहत एक
बज़्म ए गुलशन खै़राबाद का तरही मुशायराखै़राबाद सीतापुर बज़्म ए गुलशन अदबी तंजीम खै़राबाद की जानिब से एक तरही शेरी नशिस्त जिस का
ख़ैराबाद सीतापुर बज़्म ए गुलशन अदबी तन्ज़ीम खै़राबाद की जानिब से तरही मुशायरा मुनक़्क़िद हुआ।जिसकी सदारत डॉ अज़ीज़ खै़राबादी और
अंजुमने मुहम्मद ए रसूल के तहत नातिया मुशायरा खै़राबाद सीतापुरबज़्म-ए-गुलशन उर्दू अदब खै़राबाद की जानिब से  एक नातिया मुशायरा  मिर्जा
आईना ए गुलशन 15=18  गुलशन ख़ैराबादीडॉ अज़ीज़ खै़राबादी ..        "आईना ए गुलशन पर एक तायराना नज़र"खै़राबाद अवध  एक मर्दन खे़ज़
आईना ए गुलशन 11 गुलशन ख़ैराबादी                        अपनी बातमेरा नाम अशफ़ाक अली है तख़ल्लुस की जगह गुलशन खै़राबादी इस्तेमाल करता हूं।मेरी
"दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है "5ग़ज़लेंं ज़िक्र  होता  है  मगर बात नहीं होती है।आज कल उनसे मुलाकात
"एक नेकी तो कमा लूं मैं भी" कोई  रोता  है  हंसा लूं मैं भी।"एक नेकी तो कमा लूं मैं भी"।।
Urdu Hindi Shayari       बज़्में गुलशन अदबी तंजी़म खै़राबादखै़राबाद सीतापुर बज़्में गुलशन अदबी तंजी़म की जानिब से एक गैर तरही शेरी
Urdu Shayari & Gazal बज़्में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद का महाना तरही प्रोग्राम खै़राबाद सीतापुरबज़्में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद के
Urdu Shayari बज़में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद का महाना तरही प्रोग्राम खै़राबाद सीतापुरबज़्में ग़ज़ल उर्दू सोसाइटी खै़राबाद के तहत एक
बज़्म ए गुलशन खै़राबाद का तरही मुशायराखै़राबाद सीतापुर बज़्म ए गुलशन अदबी तंजीम खै़राबाद की जानिब से एक तरही शेरी नशिस्त जिस का
ख़ैराबाद सीतापुर बज़्म ए गुलशन अदबी तन्ज़ीम खै़राबाद की जानिब से तरही मुशायरा मुनक़्क़िद हुआ।जिसकी सदारत डॉ अज़ीज़ खै़राबादी और
अंजुमने मुहम्मद ए रसूल के तहत नातिया मुशायरा खै़राबाद सीतापुरबज़्म-ए-गुलशन उर्दू अदब खै़राबाद की जानिब से  एक नातिया मुशायरा  मिर्जा
आईना ए गुलशन 15=18  गुलशन ख़ैराबादीडॉ अज़ीज़ खै़राबादी ..        "आईना ए गुलशन पर एक तायराना नज़र"खै़राबाद अवध  एक मर्दन खे़ज़
आईना ए गुलशन 11 गुलशन ख़ैराबादी                        अपनी बातमेरा नाम अशफ़ाक अली है तख़ल्लुस की जगह गुलशन खै़राबादी इस्तेमाल करता हूं।मेरी